दबंग

posted Sep 16, 2015, 2:55 AM by Vinod Scaria   [ updated Sep 17, 2015, 3:06 AM by SRamachandran igib ]
अभय शर्मा, वैज्ञानिक.....


बेसिक और अप्लाईड, एक ही सिक्के के ये दो पहलू हैं
आइंस्टाइन और एडिसन, अलग अलग ये सिर्फ़ नाम हैं
हम भी कुछ ऐसा करें , समाज के ये पैगाम हैं
उलझ कर कहीं ना हम रह जाएँ कहीं, अभी करने को बहुत काम हैं

अर्जुन की तरह निशाना लगाना होगा,
अंधाधुंध तीर चलाने से खुद को बचाना होगा
लगेगी मछली की आँख में तभी तीर ,
जब हम होंगे गंभीर

मुश्किल इस बात से नहीं
की बेसिक अच्छा या अप्लाईड सही,

मुश्किल इस बात से है,
की ओरिजेनालिटि या इन्नोवेशन की अभी बहुत प्यास है

इस प्यास को बुझाएँ हम, नया विज्ञान करके दिखाएँ हम
या फिर
विज्ञान को लोगों के बीच लाएँ हम, डिस्कवरी करने का कुछ हम करें दम
या फिर

इन्वेन्शन करने का कुछ हम भरें दंभ, विज्ञान बने हमारे देश का स्तम्भ

और बने हम विज्ञान में दबंग

Abhay Sharma is interested in applying systems biology approach in neuropsychiatric drug discovery using Drosophila as model system